भविष्य का भारत: विज्ञान एव ंप्रौद्योगिकी संगोष्ठी आयोजित

हिमाचल
Spread the love


दिनांक: 22.05.2019

तकनीकी एवं प्रौद्योगिकी का आधार केवल विज्ञान-आचार्य सिकन्दर कुमार
हिमाचल विश्वविद्यालय के कुलपति आचार्य सिकन्दर कुमार ने कहा है कि आधुनिक भारत के विकास में विज्ञान की एहम भूमिका है तथा वैज्ञानिक विकास से ही आज हम विकासशील देशों की पंक्ति में खड़े हैं। वे आज सभागार में एक दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी “भारत का भविष्य: विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी” विषय पर बोल रहे थे। इस संगोष्ठी का आयोजन विश्वविद्यालय एवं भारतीय विज्ञान कांग्रेस संघ ;प्दकपंद ैबपमदबम ब्वदहतमेे ।ेेवबपंजपवदद्ध के संयुक्त तत्वावधान में आयोजन किया गया।
उन्होंने कहा कि आज विश्व में तेज़ी से अग्रसर हो रही तकनीकी एवं प्रौद्योगिकी का आधार केवल विज्ञान है तथा भारतीय विज्ञान कांग्रेस का विज्ञान के प्रचार एवं प्रसार में उल्लेखनीय योगदान हमेशा नई उर्जा वैज्ञानिकों एवं शोधकर्ताओं को देता रहा है। उन्होंने कहा कि आज हमारा दिन हाई तकनीक मोबाईल और सैल फोन से आरम्भ होता है उसमें भी वैज्ञानिक तकनीक की ही भूमिका है।
कुलपति ने कहा कि विश्वविद्यालय के सभी विज्ञान से सम्बन्धित विभागों में बेहतर कार्य हो रहा है तथा आने वाले दिनों में विश्वविद्यालय वर्तमान में नैक द्वारा दिए गए ‘ए ग्रेड’ को ‘ए प्लस’ में लाने के लिए भरसक प्रयास कर रहा है। उन्होंने भारतीय विज्ञान कांग्रेस का विश्वविद्यालय में संगोष्ठी आयोजित करने के लिए आभार व्यक्त किया।
इस अवसर पर अपने मूल बीज भाषण में भारतीय विज्ञान कांग्रेस संघ ;प्दकपंद ैबपमदबम ब्वदहतमेे ।ेेवबपंजपवदद्ध के अध्यक्ष, प्रोफेसर के0 एस0 रंगप्पा ने कहा कि भारतीय विज्ञान कांग्रेस का मूल उद्देश्य वैज्ञानिक तरक्की को आम आदमी तक ले जाना है ताकि शहरों के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में भी विकास की धारा बहने लगे। उन्होंने कहा कि भारतीय विज्ञान कांग्रेस वर्ष 1914 से लेकर आज तक विज्ञान के प्रसार के लिए कार्यरत्त है तथा विज्ञान कांग्रेस का डी.आर.डी.ओ., इसरो, अन्य एजैंसियों से भी वैज्ञानिक तकनीक को आम आदमी तक ले जाने के लिए भी प्रयास चल रहा है। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश में स्थित इस विश्वविद्यालय में वैज्ञानिक शोध के लिए अपार सम्भावनाएं उपलब्ध है तथा इनके दोहन के लिए वैज्ञानिक समुदाय का आवाहन किया कि वे बढ़ चढ़ कर अपना योगदान दें। इस अवसर पर प्रोफेसर अरविंद कालिया, अध्ययन-अधिष्ठाता, प्रोफेसर गंगाधर-महासचिव- भारतीय विज्ञान कांग्रेस संघ, डॉ0 शिवो सत्य प्रकाश कोषाध्यक्ष- भारतीय विज्ञान कांग्रेस संघ उपस्थित थे। इस संगोष्ठी की संयोजक आचार्य नीरज़ शर्मा रसायन विभाग (हि0 प्र0 वि0) ने बताया कि लगभग 65 शोधपत्र पढ़े गई और 105 प्रतिभागियों ने भाग लिया। इस संगोष्ठी के आयोजन सचिव आचार्य पी.एल.शर्मा ने बताया कि इस आयोजन में विज्ञान विभागों के छात्र-छात्राओं ने भी भाग लिया।
समापन समारोह की अध्यक्षता अधिष्ठाता अध्ययन आचार्य अरविन्द कालिया ने की। अपने सम्बोधन में उन्होंने कहा कि इस प्रकार के आयोजनों से शोध गतिविधियों को नई सूचनाएं प्राप्त करने में उत्साहवर्धन योगदान मिलता है। इस अवसर पर निदेशक उच्चतर शिक्षा डॉ अमरजीत शर्मा सम्मानित अतिथि थे।

Leave a Reply