हमीरपुर संसदीय सीट से रामलाल ठाकुर के नाम पर मूहर

राजनीति हिमाचल
Spread the love

7अप्रैल 2019
हिमाचल प्रदेश की हमीरपुर संसदीय सीट से कांग्रेस ने आख़िरकार अपना कैंडिडेट दे ही दिया। रामलाल ठाकुर के नाम पर हाईकमान ने हमीरपुर से चुनाव लड़ने पर सहमति जताई है। लेकिन ये बात राजनीति के जानकारों के गले नहीं उतर रही कि इतनी माथापच्ची के बाद जिन लोगों के नाम चर्चा में चल रहे थे, उनमें से एक भी नेता प्रत्याशी नहीं है। रामलाल ठाकुर जो की कभी टिकट की दौड़ में शामिल नहीं हुए और न ही मीडिया में उनके बारे में कोई बात सामने आई। यहां तक कि उन्होंने खुद भी कहा कि वे कभी दौड़ में नहीं थे। उसके बावजूद भी उन्हें टिकट दे दिया गया।

अब, राजनीति के ज्ञानी कांग्रेस प्रत्याशी रामलाल ठाकुर को बलि का बकरा मान रहे हैं। क्योंकि कांग्रेस प्रत्याशी राम लाल ठाकुर 3 बार सांसद का चुनाव हार चुके हैं। 1999 में पहली बार उन्होंने कांग्रेस के हमीरपुर प्रत्याशी के तौर पर चुनाव लड़ा था, जिसमें 1 लाख 29 हज़ार के क़रीब वोटों से उनकी हार हुई। उसके बाद 2004 में फ़िर उनकी 1615 वोटों से हार हुई। सुरेश चंदेल पर केस बनने के बाद 2007 में धूमल के सामने भी उन्हें हार का सामना करना पड़ा। अब एक बार फिर कांग्रेस ने उनपर सांसद का चुनाव लड़ने पर भरोसा जताया है, जिसे राजनीति के लिख़ाड़ एक तरह से बलि का बकरा समझ रहे हैं।

एक तो वैसे ही हमीरपुर से बीजेपी कैंडिडेट अनुराग ठाकुर काफ़ी स्ट्रॉन्ग हैं, ऊपर से कांग्रेस ने कोई ऐसा चेहरा नहीं दिया जो राजनीति में अनुराग को टक्कर दे सके। हालांकि, रामलाल ठाकुर कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता हैं, लेकिन उनकी बॉयोग्राफी चेक की जाए तो वे सांसद अनुराग ठाकुर के आगे एक सही कैंडिडेट नहीं फिट बैठते…।। क्योंकि जब कभी उन्होंने चुनाव लड़े तो हिमाचल में कांग्रेस की सरकारें भी रही हैं।

Leave a Reply