मोदी सरकार की दूसरी पारी : नये भारत का मार्ग प्रशस्‍त करती प्रताप चन्‍द्र सारंगी

Spread the love
Read Time0Seconds

3 दिसम्बर 2019 प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी के सक्षम और दूरदर्शी नेतृत्व में, एक नए भारत के निर्माण के लिए सरकार शानदार सफलता के कथानक लगातार लिख रही है, जो समावेशी और प्रगतिशील, साहस और आत्मविश्वास तथा इन सभी से ऊपर पुनरुत्‍थान की राह पर देशवासियों का नेतृत्व करने के लिए दृढ़ है और उसने इस दिशा में अपनाध्यान केंद्रित कर रखा है। कांग्रेस शासन के दौरान वर्षों की निष्क्रियता और ढिलाई के बाद, देश अपनी खोई हुई पहचान को फिर से पाने के लिए फिर से एक नई गति अनुभव कर रहा है। युवा नए जोश और उत्साह के साथ आशावादी हैं; महिलाएं और अन्य गरीब तथा समाज का कमजोर वर्ग प्रतिष्‍ठा और सम्मान का जीवन जी रहा है; अल्पसंख्यक अपने अधिकारों और विशेषाधिकारों के प्रति आश्वस्त महसूस कर रहे हैं; पेशेवर और उद्यमी एक विस्तृत अर्थव्यवस्था का लाभ उठा रहे हैं और इन सभी से ऊपर आम आदमी स्‍वाभिमान और आशापूर्ण दृष्टि के साथ जी रहा है। सरकार की “सबका साथ, सबका विकास और सबका विश्वास” का मूल मंत्र इस चौंका देने वाली कहानी का सार है।
इस नए भारत के निर्माण के लिए मजबूत इमारत केवल फिर से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था के साथ ही संभव है। हालांकि चक्रीय प्रभाव के कारण अर्थव्यवस्था में अस्थायी मंदी के संकेत मिल रहे हैं, लेकिन निश्चित रूप से इसमें उबरने और पलटने की स्‍वाभाविक क्षमता है। आज, भारत दुनिया की सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में से एक है – प्रधान मंत्री की कल्‍पना के अनुसार यह 2024तक पांच ट्रिलियन अमेरिकी डॉलर अर्थव्यवस्था बनने की राह पर है। सरकार अनुकूल माहौल के साथ एक नई बढ़ती हुई अर्थव्यवस्था की खूबसूरत संरचना का निर्माण करने के लिए प्रतिबद्ध है।
विश्‍व बैंक की ईज ऑफ डूइंग बिजनेस रिपोर्ट (कारोबार करने के लिए उचित माहौल रिपोर्ट) ने 190 देशों में भारत को 63वां स्‍थान दिया है जो पिछले तीन वर्षों में 67वें स्‍थान पर आने की एक लम्‍बी छलांग है। वर्ष 2011 के बाद किसी देश की यह सबसे लंबी छलांग है। इसने लगातार तीसरी बार शीर्ष के दस उन्‍नतिशील देशों के रूप में भारत की नियमित प्रगति को स्‍वीकृति प्रदान की है। सरकार इस बात को सुनिश्चित करने पर ध्‍यान केन्द्रित कर रही है कि कर राजस्‍व में पूरी तरह से भारी बढ़त बनी रहे। सरकार रोजगार वृद्धि पर ध्‍यान देने के साथ निर्यात नीति और आयात प्रतिस्‍थापन पर विशेष रूप से ध्‍यान दे रही है। सरकार ने निर्यातकों के लिए ‘निर्भीक’ नाम की एक नई निर्यात ऋण बीमा योजना (ईसीआईएस) शुरू की है। ये सब इस बात का प्रमाण हैं कि लोगों की समृद्धि और भलाई सुनिश्चित करने के लिए अर्थव्‍यवस्‍था मजबूत रास्‍ते पर है।
सरकार इस बात से भली-भांति परिचित है कि नये उद्यमी किसी देश की आर्थिक समृद्धि के मुख्‍य सूचक हैं। स्‍टार्ट अप को प्रोत्‍साहन देने के लिए सरकार द्वारा की गई स्‍टार्ट अप इंडिया पहलों के अंतर्गत 21,778 स्‍टार्ट अप को मान्‍यता दी गई है। घरेलू उत्‍पादकों के हितों की रक्षा करने और स्‍वदेश में विनिर्माण को प्रोत्‍साहन देने के सरकार के प्रयास बेजोड़ हैं। इतना ही नहीं प्रधान मंत्री के नेतृत्‍व में सरकार ने क्षेत्रीय विस्‍तृत क्षेत्रीय आर्थिक साझेदारी (आरसीईपी) में भारत का दृष्टिकोण सफलतापूर्वक रखा क्‍योंकि प्रमुख चिंताओं को दूर नहीं किया गया था।
सरकार एमएसएमई क्षेत्र पर भी विशेष ध्‍यान दे रही है जो किसी अर्थव्‍यवस्‍था की रीढ़ हैं। एमएसएमई की ऋण और बाजार तक पहुंच का प्रावधान करके इस क्षेत्र के विकास पर लाभकर प्रभाव पड़ा है। एमएसएमई को 59 मिनट के भीतर बैंक ऋण की मंजूरी और आवेदन की तारीख के 60 दिन के भीतर जीएसटी रिफंड की व्‍यवस्‍था सुनिश्‍चित करना वास्‍तव में क्रांतिकारी कदम है।
प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी समग्र विकास में विश्‍वास रखते हैं। हमारी विशेष चिंता हमेशा से किसानों का कल्‍याण और उनका विकास रही है। किसानों की आमदनी दोगुना करना सरकार का नया मुद्दा है जिस पर उसने विशेष ध्‍यान दिया है, जिनके लिए मत्‍स्‍य पालन, पशु पालन और डेयरी उद्योग क्षेत्र में अन्‍य विस्‍तृत उपाय करने के अलावा न्‍यूनतम समर्थन मूल्‍य निर्धारित किया गया है।
सामाजिक क्षेत्र में, तीन तलाक की परम्‍परा को समाप्‍त करना मुस्लिम महिलाओं के कल्‍याण और उन्‍हें सशक्‍त बनाने की दिशा में एक बड़ा कदम है। वोट बैंक की राजनीति से ऊपर उठकर, सरकार ने प्रगतिशील उपाय करने का फैसला किया है।
सरकार ने देश की एकता और अखंडता बनाए रखने के लिए कोई भी कदम उठाने में कभी भी संकोच नहीं किया। जम्‍मू कश्‍मीर के मामले में अनुच्‍छेद 370 और 35ए के विशेष प्रावधानों को निरस्‍त करने के साथ ही, सरकार ने जम्‍मू और कश्‍मीर में दीर्घकालिक विकास सुनिश्चित करके आतंकवाद और हिंसा के लंबे समय से चले आ रहे मुद्दे को खत्‍म कर दिया है।
प्रधानमंत्री के निर्देश पर, सरकार ने एक नये जल शक्ति मंत्रालय का गठन किया है जिसे पानी के मुद्दे का विस्‍तार से समाधान करने के लिए बनाया गया है। नदियों को जोड़ने और उनकी सफाई को भी प्राथमिकता दी गई है।
भारत के विकास की कहानी को विश्‍व समुदाय ने स्‍वीकारा है और उसे पहचान दी है। दुनिया नरेन्‍द्र मोदी को असाधारण प्रतिष्‍ठा वाले विश्‍व नेता के रूप में देख रही है। प्रधान मंत्री का व्यक्तित्व और मंत्रमुग्‍ध कर देने वाला आकर्षण है कि लोग इतने भाग्‍यशाली है कि वे उनकी प्रतिष्‍ठा का आनंद उठा रहे हें और देश श्रेष्‍ठ हाथों में है, जो आने वाले वर्षों में समृद्धि के सर्वोच्‍च शिखर पर अवश्‍य पहुंचेगा।

0 0
0 %
Happy
0 %
Sad
0 %
Excited
0 %
Angry
0 %
Surprise

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
%d bloggers like this: