नशा नाश का दूसरा नाम है

Spread the love
Read Time1 Second

बिलासपुर 5 दिसम्बर – नशा निवारण अभियान के अन्तर्गत एक दिवसीय जागरूकता
शिविर का आयोजन आदर्श बीएड कालेज अमरपुर में स्वास्थ्य विभाग द्वारा किया
गया। इस अवसर पर स्वास्थ्य शिक्षक प्रवीण शर्मा व विजय कुमारी ने काॅलेज
के छात्र व छात्राओं को नशे के दुष्परिणामों के बारे मे अवगत कराया।
उन्होने बताया कि नशा नाश का दूसरा नाम है जिसकी दलदल में फंसकर व्यक्ति
न केवल शरीर को नष्ट करता है बल्कि इसके साथ-साथ अपने परिवार व समाज को
भी दूषित करता है। उन्होने बताया कि नशा कई सामाजिक बुराइयों को जन्म
देता है। उन्होने बताया कि समाज का एक बहुत बड़ा वर्ग नशे की चपेट में आ
गया है जिसकी वजह से समाज में बहुत सारी बुराइयां पैदा हो गई है और हमारा
युवा जिसको ऊर्जावान होना था वह खोखला हो गया है।
उन्होने नशे से दूर रहन के लिए युवाओं से आहवान किया कि नशे को ना कहना
सीखें, नशा करने वालों से दूर रहें, रचनात्मक कार्यों वह खेलकूद में भाग
ले, अभिभावक बच्चों के साथ पर्याप्त समय बिताएं, बच्चों की भावनाओं और
विचारों का सम्मान करें उनके दोस्तों के वारे में जानकारी रखें।
उन्होने बताया कि नशा निवारण अभियान जो 15 नवंबर से 15 दिसंबर तक चलाया
जा रहा है जिसमें स्वास्थ्य विभाग के साथ-साथ और कई विभागों व एनजीओ के
सहयोग से इस जागरूकता को स्कूलों, कॉलेजों और समुदाय में पहुंचाया जा रहा
है ताकि लोग नशे के दुष्परिणामों के बारे में जागरूक होकर एक स्वस्थ समाज
की स्थापना कर सकें। उन्होने बताया कि क्षेत्रीय अस्पताल में नशा मुक्ति
केंद्र है जहां पर नशे के शिकार हुए लोगों को उचित सलाह के साथ-साथ
दवाईयां भी दी जाती हैं। इस अभियान के अंतर्गत जिला अस्पताल में हर
रविवार को स्पेशल ओपीडी भी लगाई जा रही है जिसमें विभिन्न जगह से आए हुए
नशे के शिकार लोगों को उचित सलाह और इलाज किया जा रहा है।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
%d bloggers like this: