नगर निगम शिमला द्वारा तैयार की गई तहबाजारी लिस्ट में भारी धांधली

Spread the love
Read Time0 Second

सीटू जिला कमेटी शिमला ने नगर निगम शिमला द्वारा तैयार की गई तहबाजारी लिस्ट में भारी धांधली का आरोप लगाया है। सीटू ने नगर निगम को चेताया है कि वह इस सूची को निष्पक्ष तौर से फाइनल करे अन्यथा नगर निगम के खिलाफ निर्णायक आंदोलन होगा। इस मसले को लेकर रेहड़ी फड़ी तहबाजारी यूनियन की बैठक हुई जिसमें आंदोलन को तेज करने का निर्णय लिया गया।

सीटू जिला सचिव बाबू राम ने मांग की है कि तहबाजारी सूची में की गयी भारी गड़बड़ी के खिलाफ विजिलेंस जांच शुरू की जाए। उन्होंने आरोप लगाया कि तहबाजारी की कई लिस्टें बनाई गई हैं जिनमें अलग-अलग नाम हैं व क्रम संख्या में भी समानता नहीं है। उन्होंने कहा कि वार्ड नम्बर 14 रामबाजार की तहबाज़ारी लिस्ट में क्रमांक 182 पर दिनेश शर्मा पुत्र स्वर्गीय रामेश्वर शर्मा पता अमरोशिया बिल्डिंग रामबाज़ार को गंजबाजार में तहबाज़ारी दिखाया गया है। इसी लिस्ट में क्रमांक 186 दीपक श्रीधरं पुत्र स्वर्गीय रामेश्वर शर्मा पता अमरोशिया बिल्डिंग को भी तहबाज़ारी दिखाया गया है जबकि दिनेश और दीपक सगे भाई हैं। एक ही परिवार के दो लोगों को नगर निगम तहबाज़ारी कैसे आबंटित कर सकता है। ज्ञात रहे कि दीपक श्रीधर ने नगर निगम का पिछला चुनाव भाजपा की टिकट से लड़ा था। दीपक और दिनेश के पास दीपक ट्रेडर्स 36/11 अनाज मंडी में नगर निगम की दुकान पिछले 50 सालों से लीज़ पर है लेकिन ये दुकान उनके पिता जी की मृत्यु के पश्चात नगर निगम के रिकोर्ड में दीपक और दिनेश के नाम पर है। और इसी दुकान के एक हिस्से को सबलेट भी किया हुआ है। हैरानी है कि तहबाज़ारी में भी इसी दुकान का पता लिखा है जो कि सरासर ग़लत है। नगर निगम क्या उन्हें भी तहबाज़ारी दे सकता है जिन लोगों के पास पहले से ही निगम की लीज़ पर दी गयी दुकानें हैं। उन्होंने कहा कि एक लिस्ट में क्रम संख्या 182,183 व 186 में और नाम हैं व दूसरी लिस्ट में इसी क्रम संख्या में कोई दूसरे नाम हैं। इस से साफ झलक रहा है कि तहबाजारी की लिस्ट फाइनल होने में भारी राजनीतिक हस्तक्षेप हो रहा है जिस पर हाल ही के आदेश में माननीय उच्च न्यायालय भी टिप्पणी कर चुका है व न्यायालय ने इसे तुरन्त रोकने के आदेश दिए हैं। तहबाजारी की लिस्ट में जो भी फर्जीवाड़ा हो रहा है उसमें सीधे आयुक्त की भूमिका है इसलिए इसकी विजिलेंस जांच करके दोषियों पर सख्त कार्रवाई होना बेहद आवश्यक है।

0 0
Happy
Happy
0 %
Sad
Sad
0 %
Excited
Excited
0 %
Sleppy
Sleppy
0 %
Angry
Angry
0 %
Surprise
Surprise
0 %

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Close
%d bloggers like this: